It Was A Very Plaid Year!!!

Posted by Ted Thursday, January 10, 2013 5:54:00 PM

2012 has passed by very quickly it seems and it was a very fun and exciting year for Plaid Anxiety. We hope everyone had a good year as well and that all of your holiday wishes came true. We played a total of 18 live shows from July 2012 to December 2012...more shows than we have ever played in one year...and the last show in 2012 marked our 50th live performance. Quite exciting for us. So, now that 2013 is here, we are taking a little break to regroup and begin writing some new material. Lots of ideas are already underway and you can definitely look forward to hearing some new music from the band this year. Thank you for everyone who supported us in 2012 by coming to our shows and buying our music and we hope to see you and friends out there this year. We will keep you updated on everything going on Plaid. Here we come, 2013!!!!

Comments

Tuesday, April 9, 2013 9:53:09 PM

The forum is a brighter place tanhks to your posts. Thanks!

The forum is a brighter place tanhks to your posts. Thanks!
Wednesday, April 10, 2013 1:42:58 AM

इससे पूर्व डाक सेवाओं पर तम&

इससे पूर्व डाक सेवाओं पर तमाम पुस्तकें प्रकाशित हुई हैं पर सभी तथ्यों और उनसे जुड़े विवरणों को एक जगह एकत्र कर इस प्रकार सारगर्भित रूप में प्रस्तुत करने का यह प्रथम प्रयास है। _____________________________डाक विभाग एक पुराना विभाग है. उसके कार्यों को इसी तरह सामने lane की जरुरत है..के. के. यादव जी को इस पुस्तक हेतु बधाई.
Wednesday, April 10, 2013 1:42:59 AM

इससे पूर्व डाक सेवाओं पर तम&

इससे पूर्व डाक सेवाओं पर तमाम पुस्तकें प्रकाशित हुई हैं पर सभी तथ्यों और उनसे जुड़े विवरणों को एक जगह एकत्र कर इस प्रकार सारगर्भित रूप में प्रस्तुत करने का यह प्रथम प्रयास है। _____________________________डाक विभाग एक पुराना विभाग है. उसके कार्यों को इसी तरह सामने lane की जरुरत है..के. के. यादव जी को इस पुस्तक हेतु बधाई.
Wednesday, April 10, 2013 1:43:23 AM

इससे पूर्व डाक सेवाओं पर तम&

इससे पूर्व डाक सेवाओं पर तमाम पुस्तकें प्रकाशित हुई हैं पर सभी तथ्यों और उनसे जुड़े विवरणों को एक जगह एकत्र कर इस प्रकार सारगर्भित रूप में प्रस्तुत करने का यह प्रथम प्रयास है। _____________________________डाक विभाग एक पुराना विभाग है. उसके कार्यों को इसी तरह सामने lane की जरुरत है..के. के. यादव जी को इस पुस्तक हेतु बधाई.
Comments are closed on this post.